फेसबुक आज के समय में एक ऐसा प्लेटफॉर्म बन चुका है . जहां आपको सिर्फ चैटिंग नहीं मिलेगी , बल्कि आपको यहां पर आपके इंटरटेनमेंट के लिए बहुत सारे कंटेंट भी देखने को मिल जाते हैं . और तो और दोस्तों यह सारे कंटेंट बहुत ही ज्यादा इंगेजिंग होते हैं . जिससे फेसबुक आज के डेट में एक चैटिंग प्लेटफार्म से बदलते हुए एक कंटेंट डिसटीब्यूटिंग प्लेटफॉर्म बन चुका है . आज के दौर में फेसबुक पर हर मिनट लाखों वीडियो देखें और अपडेट किए जा रहे हैं . जिस कारण आज फेसबुक एक बहुत बड़ा इकोसिस्टम बन चुका है कंटेंट क्रिएशन के मामले में .

● फेसबुक कैसे बदल रहा है .

दोस्तों शुरुआती दौर में फेसबुक की स्थापना जब हुई थी . तू इसे कुछ कॉलेज स्टूडेंट के द्वारा स्टार्ट किया गया था एक प्रोजेक्ट को लेकर . पर किसी ने उस टाइम नहीं सोचा था कि आज फेसबुक इतना बड़ा इकोसिस्टम क्रिएट कर देगा डिजिटल स्पेस के मामले में . आज फेसबुक बहुत सारे लोगों को रोजगार देने के साथ-साथ करोड़ों रुपए के इकोनामिक डेवलपमेंट में भी अपना योगदान दे रहा है .

पर फेसबुक ने अपने आप को समय के साथ बदला इसी कारण आज हम इसे एक बेहतर रूप में देख पा रहे हैं . शुरुआत में इसे महज चैटिंग के रूप में इस्तेमाल किया जाता था पर आगे चलकर जैसे जैसे लोगों में इसके यूज बढ़ते गए . इसके फाउंडर नहीं इसमें बहुत सारी तब्दीलियां करना शुरू कर दिया . जिसके बाद आज हम इसे देख रहे हैं एक वीडियो और कंटेंट डिसटीब्यूटिंग प्लेटफार्म के रूप में . साथ ही दोस्तों जब कोई प्लेटफार्म इतना बड़ा हो जाता है तो एक लाजमी सी बात है कि यहां पर कंटेंट क्रिएटर को बहुत सारे मौके मिल जाते हैं पैसे कमाने के . तो चलिए बात करते हैं आप फेसबुक से कैसे पैसे कमा सकते हैं और वह भी लाखों-करोड़ों में .

● फेसबुक पैसे कहां से कम आ रहा है , और हम पैसे कैसे कमा सकते हैं .

दोस्तों तुम सब तो जानते ही हो कि आजकल ऐड का जमाना है . और ऐसे में बहुत सारे ऐड तुम्हें देखने को मिलते हैं इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर . और इन सब से एक बात तो साफ है फेसबुक बहुत ज्यादा पैसे जनरेट कर रहा है इन सारे ऐड को चलाकर अपने प्लेटफार्म पर . और जब कोई कंपनी इतना ज्यादा पैसा कमा रही है तो वह चाहेगी अपनी क्रिएटर विज्ञानी जो उन पर कंटेंट डालते हैं उन्हें भी कुछ परसेंटेज देना ताकि वह आगे चलकर और अच्छा कंटेंट डाले और अपने रेगुलेरिटी को मेंटेन करें ताकि इनके प्लेटफार्म पर लोग ज्यादा से ज्यादा देर ठीके .

देखो दोस्तों फेसबुक का मेन फंडा है कि ज्यादा से ज्यादा एडवर्टाइजमेंट हो उनके प्लेटफार्म पर और ज्यादा से ज्यादा एडवरटाइजर पैसे खर्च करें ताकि उनके प्लेटफार्म का रेवेन्यू ज्यादा बढ़ सके . और इन सारी चीजों को करने के लिए उन्हें कोई चीज मदद कर रहा है तो वह है फेसबुक का रिटेंशन टाइम . यानी जितना देर आदमी आपके प्लेटफार्म पर रहेगा उतना पॉसिबिलिटी है कि ब्रैंड आपके प्लेटफार्म पर पैसे खर्च करेगी . क्योंकि अगर आदमी की रिटेंशन टाइम ज्यादा होगा तो यानी आपके प्लेटफार्म पर वह ज्यादा देर समय बिता रहा है . तो हो सकता है कि उनके ऐड में जो प्रोडक्ट दिखा रहे हैं वह ज्यादा बिकेंगे और इनसे उन एडवरटाइजर को काफी फायदा भी होगा . नीचे हमने आपको बहुत सारे तरीके बताए हैं जिनसे आप फेसबुक से काफी ज्यादा कमाई कर सकते हो .

▪︎ Brand Collabs Manager

दोस्तों यह प्रोग्राम फेसबुक के द्वारा ही लांच किया गया है जिसमें आप बहुत सारे फ्रेंड के साथ मिलकर उनसे कोलैबोरेट कर सकते हो . यानी अगर आप अपने फील्ड मैं बहुत ज्यादा अच्छे हो और साथ ही आपकी ऑडियंस बहुत ज्यादा बड़ी है . तो यहां पर आपको बहुत ज्यादा वॉशेबिलिटी है कि ब्रांड आप तक रिचआउट करेंगे और आपसे कोलैबोरेट करने की बात करेंगे .

कोलैबोरेशन बेसिकली एक वीडियो फॉर्मेट या फिर एक पिक्चर फॉर्मेट में भी हो सकता है . आपको अपनी आईडी पर उन ब्रांड के कुछ प्रोडक्ट या फिर उन से रिलेटेड जैसा वह बताएंगे वैसा करना होता है . और उनके लिए वह अच्छा खासा अमाउंट भी देने के लिए तैयार होते हैं . और दोस्तों आपको बता दूं कि अगर ब्रैंड को आपके फर्स्ट कोलैबोरेशन से काफी अच्छा रिस्पांस और लीड्स जेनरेट होते हैं . तो वह फ्यूचर में आपसे फिर से कोलैबोरेट करने को तैयार रहते हैं . साथ ही अगर आप एक ब्रांड प्रमोशन करते हो और उस बैंड को फायदा होता है तो उसके कॉन्पिटिटिव भी आप तक रिचआउट करते हैं और वहां से आपको बहुत ज्यादा अच्छी कमाई हो जाती है .

▪︎ Fan Subscriptions

अगर आप चाहते हो किसी और के प्रोडक्ट को ना प्रमोट करना और अपने फॉलोअर्स से अच्छी खासी कमाई करना . तो यहां पर काम आता है सब्सक्रिप्शन पर आधारित पेज . जी हां फ्रेंड ऐसे बहुत सारे फेसबुक पेज आपको मिल जाएंगे जिस में ज्वाइन होने के लिए आपको कुछ पेमेंट करना होता है . बल्कि यह तरीका बहुत ज्यादा अच्छा होता है अपने कंटेंट से काफी ज्यादा मोटी कमाई करने का .

पर इस तरह के पेज बनाने के लिए आपको काफी ज्यादा मेहनत करना होता है . क्योंकि यहां पर आपको दोनों को लेकर चलना होता है . यानी आपके सब्सक्राइबर जो आपको पेमेंट करते हैं . वहीं दूसरी ओर जो आपके फ्री कंटेंट को कंज्यूम करते हैं . जिनसे आपके पेज में काफी ज्यादा इंगेजमेंट होता है . जो कि एक बहुत जरूरी चीज है आपके पेज को आगे बढ़ते रहने के लिए .

यहां पर आपको ध्यान देना पड़ता है कि आपके सब्सक्राइबर को कुछ अलग कंटेंट दिया जाता ताकि आपका वह long-term तक पेमेंट करते रहे .
जैसे कि कुछ पेजेस अपने सब्सक्राइबर्स को कुछ प्रीमियम पोस्ट प्रोवाइड करते हैं , कुछ पोल , वोटिंग , क्विजीज़ और क्वेश्चन आंसर सेशन के लिए सिर्फ अपने सब्सक्राइबर के दिए गए रिस्पांस को लेते हैं . और इनसे काफी अच्छा बैलेंस बना हुआ रहता है . जिनसे यह लोंग टर्म तक काम कर पाते हैं अपने सब्सक्राइब और और नॉन सब्सक्राइबर के बीच में .

▪︎ Facebook Partner Programe

दोस्तों फेसबुक पार्टनर प्रोग्राम , इनीशिएटिव है फेसबुक की ओर से जिनसे कंटेंट क्रिएटर अपना रेवेन्यू जेनरेट कर सकते हैं अपने कंटेंट के लिए . यानी फेसबुक ऑन कंटेंट क्रिएटर को पेमेंट करता है उनके वीडियो या फिर उनके कंटेंट के बीच में जो ऐड चलता है उनके लिए . यह बहुत हद तक यूट्यूब यह पार्टनर प्रोग्राम की तरह है . जिनमें आपको सिलेक्ट होने के लिए कुछ क्राइटेरिया पूरा करना होता है .

जैसे कि फेसबुक पार्टनर प्रोग्राम के इलाजएबिलिटी क्राइटेरिया हैं . 10000 प्लस फॉलोअर्स फेसबुक पेज पर . बीते 60 दिन में 3000 घंटे का वाचटाइम पूरा होना .30001 मिनट वीडियो व्यू इन 3 मिनट वीडियो इन लास्ट 60 डेज . अगर आप इन सारे क्राइटेरिया को पूरा कर लेते हैं तो आपको फेसबुक पार्टनर प्रोग्राम में एंट्री मिल जाती है .

● Conclusion : क्या हम फेसबुक से लखपति बन सकते हैं .

दोस्तों तुम्हें बता दूं कि फेसबुक से बहुत सारे लोग अच्छी खासा रनिंग कर रहा है . और अभी फेसबुक का तो स्टार्टिंग है . क्योंकि अभी यहां पर बहुत कम क्रिएटर है जो कंटेंट बना रहे हैं . पर यहां पर बहुत ज्यादा लोग हैं जो इन कंटेंट को कंज्यूम कर रहे हैं . यानी अभी बहुत ज्यादा चांस है की आप फेसबुक पर ग्रो कर सकते हैं . यानी एक अच्छा खासा फॉलोवर बेस और पब्लिक व्यू बनने के साथ अच्छी खासी कमाई भी स्टार्ट कर सकते हो .


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.